दिमाख हिला देने वाली 15 अगस्त शायरी। Independence day shayari in Hindi

फ़ना होने की इजाजत ली नहीं जाती।
फ़ना होने की इजाजत ली नहीं जाती।
 ये वतन की महोबत है।
मेरे दोस्त जो पूछ के की नहीं जाती।
*****

 Independence day shayari in Hindi

कुछ नसा तिरंगे की आन का है। 
और कुछ नसा भारत माता की शान का है। 
हम लहराए गए है जगह ये तिरंगा ये नशा भारत देश की सान का है। 

******

दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान और मान है।
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक तन में सांस हैं..!!

*****

Independence day shayari in Hindi
ना हिन्दू बन कर देखो
ना मुस्लिम बन कर देखों
बेटों की इस लड़ाई में
दुःख भरी भारत माँ को देखो |

******

तैरना है तो समुन्दर में तेरो।
नदी नालो में क्या रखा है।
अगर महोबत करनी है तो तिरंगे से करो।
बेवफा सनम में क्या रखा है।

*****
जय हिंदी जय भारत
अगर आप भी अपने वतन से प्यार करते हो तो शेयर करे और comment में जय हिन्द जय भारत जरूर लिखे।

Post a Comment

0 Comments